जानिए रजनीकांत की ज़िंदगी से जुड़े कुछ ख़ास किस्से, भिखारी समझकर एक औरत ने पकड़ा दिए थे 10 रुपए

साउथ के सुपर स्टार्स में से सबसे पहले रजनीकांत का नाम आता है, रजनीकांत आज इतने बड़े सुपरस्टार होने के बावजूद जमीन से जुड़े हुए हैं। वह फिल्मों के बाहर असल जिंदगी में एक सामान्य व्यक्ति की तरह ही दिखते हैं और शिवाजी राव गायकवाड़ उर्फ रजनीकांत के प्रशंसक उन्हें प्यार ही नहीं करते बल्कि उन्हें पूजते हैं । लेकिन असल ज़िंदगी में उनके जैसे बड़े लाइफ स्टेटस के साथ जीने वाला कोई नहीं। 12 दिसंबर, 1950 को पैदा हुए रजनीकांत 68 साल के हो चुके हैं। आज हम आपको उनकी ज़िंदगी के चार ऐसे किस्से बताएंगे जो आपको खुश करेंगे।

फिल्म जगत में शुरुआत के दिनों में रजनीकांत को सिर्फ छोटे-मोटे नेगेटिव रोल्स ही मिलते थे।उन्हें पहली बार फिल्म ‘भुवना ओरू केल्विकुरि’ में पॉजिटिव और बड़ा रोल मिला जिसमें उनके एक्टिंग की काफी तारीफ भी हुई थी। लेकिन इसके बाद एक ऐसा दौर आया जब अमिताभ को अपना इंस्पिरेशन मानने वाले रजनी लगातार उनकी फिल्मों की रीमेक करने लगे। उन्होंने तकरीबन 11 फिल्मों की रीमेकमें काम किया लेकिन उनको मनचाही सफलता नहीं मिली। इसके बाद रजनी की फिल्म ‘बिल्ला’ जो अमिताभ की फिल्म ‘डॉन’ का रीमेक थी, वो जबरदस्त हिट रही। इस फिल्म ने रजनी की बॉक्स ऑफिस पर धमक बढ़ा दी लेकिन उनकी इमेज को कोई ख़ास फर्क नहीं पड़ा। इसके बाद उन्होंने कुछ ओरिजनल फिल्में की लेकिन उनकी इमेज एकबार फिर 1990 में बनी फिल्म ‘पनाक्करन’ से बदली जो अमिताभ की फिल्म ‘लावारिस’ का रीमेक थी।रजनीकांत के करियर और उनकी इमेज के लिए यह फिल्म संजीवनी बूटी साबित हुई।

1978 में रजनीकांत को असल मायने में सुपरस्टार का दर्ज़ा हिट फिल्म ‘भैरवी’ के बाद मिला और लोग उन्हें कायदे से पहचानने लगे। उनकी इंटरव्यू के लिए लाइनें लगने लगीं तब रजनी 1979 की बॉलीवुड हिट ‘गोलमाल’ की रीमेक ‘थिल्लु मुल्लु’ की शूटिंग में व्यस्त थे।। एक बार चेन्नई के एथिराज कॉलेज के कुछ स्टूडेंट अपनी कॉलेज मैगज़ीन के लिए उनका इंटरव्यू करना चाहते थे तो रजनी ने उन्हें इंटरव्यू के लिए बुलवा लिया। उनसे बात करने लता रंगाचारी नाम की एक लड़की आई। उसने बात करना शुरू किया और रजनीकांत फ्लैट हो गए।  माहौल एकदम लव एट फर्स्ट साइट वाला बन गया। उसी समय उन्होंने इस लड़की को बातचीत खत्म होने के तुरंत बाद प्रपोज़ करने का फैसला लिया। और इंटरव्यू खत्म होते ही रजनीकांत ने लता से शादी के लिए पूछ लिया, लता ने शर्माते हुए रजनीकांत को उनके घरवालों से बात करने के लिए कहा और  फिर दोनों की शादी हो गई।

रजनीकांत बहुत धार्मिक व्यक्ति हैं। एकबार वो मंदिर में पूजा करने अपने असल अवतार में मतलब बुजुर्ग, गंजे और सिंपल कपड़ों में गए। मंदिर से निकलते वक्त वो सीढ़ियों पर बैठकर सुस्ताने लगे। इतने में एक औरत वहां से गुज़री और उन्हें भिखारी समझकर पैसे दे दिए। रजनी ने भी पैसे ले लिए। जब रजनी वहां से निकलने के लिए अपनी कार में बैठ रहे थे, तब उस औरत ने उन्हें दोबारा देख लिया और जाकर माफी मांगने लगी। जिस पर रजनी ने जवाब दिया कि वे इसीलिए मंदिर आते हैं कि ऊपर वाला उन्हें उनकी हैसियत याद दिलाता रहे। वो भी एक साधारण आदमी हैं कोई सुपरस्टार नहीं। ऐसी ही बातें उन्हें घमंडी होने से बचाती हैं।

साल 1986 में फिल्म ‘भगवान दादा’ रिलीज़ हुई थी जिसमें रितिक रोशन चाइल्ड आर्टिस्ट थे। फिल्म के बारे में बात करते हुए रितिक ने एक मजेदार किस्सा बताया था कि फिल्म में वो ज्यादातर सीन्स में गड़बड़ कर देते थे, जिस पर उनके पापा राकेश रोशन बहुत गुस्सा करते थे, राकेश रोशन फिल्म में एक लीड रोल भी कर रहे थे और फिल्म के डायरेक्टर भी थे। एक बार एक बहुत इंपॉर्टेंट सीन शूट हो रहा था और रितिक ने गड़बड़ कर दी। सब को पता था कि इस बार रितिक को बहुत डांट पड़ने वाली है। ऐसे में रजनी ने अपना पूरा डायलॉग गलत कर दिया जिससे रितिक डांट खाने से बच गए। 

रजनीकांत रियल लाइफ में भी बहुत बड़े हीरो हैं वे हमेशा लोगों की मदद करते हैं, शायद इस लिए लोग उनकी पूजा भी करते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *