नेपोटिज्म को लेकर गोविंदा ने दिया बड़ा ब्यान, कहा: 4-5 लोगों के हाथों में है बॉलीवुड!

सुशांत सिंह राजपूत की दुखद घटना के बाद नेपोटिज्म पर बहस जारी है। कई बड़े एक्टर्स भी आये दिन इस मुद्दे पर अपनी राय रख रहे हैं। अब हाल ही में 90 के दशक के सुपर स्टार रहे गोविंदा (Govinda) ने भी इस मुद्दे पर अपनी राय रखी है। गोविंदा ने बताया कि मुझे भी इंडस्ट्री में काफी मेहनत करनी पड़ी थी। उन्होंने बताया कि प्रोड्यूसर्स से मिलने के लिए उन्हें घंटों-घंटों इंतजार करना पड़ता था।

एक इंटरव्यू में गोविंदा ने अपने एक्टर माता-पिता को लेकर बताया, ‘उनके और मेरे बीच 33 साल एज गैप था। वह इंडस्ट्री छोड़ रहे थे और मैं 21 साल की उम्र एक्टर बन रहा था। इसलिए जब मैंने इंडस्ट्री में कदम रखा, तब कई नए प्रोड्यूसर्स आ चुके थे, जो मेरे वंश के बारे में नहीं जानते थे। मुझे उनसे मिलने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ता था।

गोविंदा ने आउटसाइडर को लेकर कहा कि कोई जो इंडस्ट्री के बाहर से हैं, उनका यह मानना गलत लगता है कि उन्होंने दूसरों की तुलना में कठिन यात्रा तय की है। इंडस्ट्री में आपके पास सही नजरिया होना बहुत जरूरी है।

आगे गोविंदा ने कहा कि मैं अपने अनुभव के आधार पर कह सकता हूं, ‘फिल्म एक कला है लेकिन हमने उसे बिजनेस बना दिया है। कलाकार इंसान हैं कोई प्रोडक्ट नहीं है, उन्हें स्वीकार करो जिनके पास टैलेंट है।’ उन्होंने कहा- ‘पहले, जिसमें टैलेंट होता था उसे काम मिलता था। हर फिल्म को थिएटर में समान अवसर मिलता था लेकिन अब, सिर्फ 4-5 लोग ही इस बिजनेस को चला रहे हैं। वो ही तय करते हैं कि जो लोग उनके करीब नहीं है उनकी फिल्म सही से रिलीज होंगी या नहीं। मेरी कई फिल्मों के साथ भी ऐसा हुआ है।’

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत की दुखद घटना के बाद आउटसाइडर बनाम इनसाइडर की बहस काफी तेजी के साथ छिड़ गई है। कंगना रनौत समेत कई ऐसे कलाकार हैं, जो इस मुद्दे पर खुलकर बोल रहे हैं। वहीं, सोशल मीडिया पर स्टार किड्स और बड़े-बड़े फिल्ममेकर्स को निशाने पर लिया जा रहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *