सुशांत के बॉडीगार्ड का खुलासा- सुशांत की बीमारी से बेफिक्र रिया उन्हीं के पैसे से अपने घरवालों और दोस्तों संग छत पर करती थीं लैविश पार्टियां

सुशांत के पिता द्वारा रिया चक्रवर्ती के खिलाफ केस दर्ज करवाने के बाद इस केस में नया मोड़ आ चुका है। अब सुशांत केस में नए- नए कयास और तमाम बातें सामने आ रही हैं। इस पूरे मामले में अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती पर कई आरोप लग रहे हैं। इस बीच सुशांत सिंह राजपूत के बॉडीगार्ड ने भी अपने बयान में कई खुलासे किए हैं।

एक इंटरव्यू में बॉडीगार्ड ने बताया कि सुशांत सिंह राजपूत सर को हमलोग एसएसआर कहकर बुलाते थे। वो एक जिंदादिल इंसान थे। लेकिन एक वक्त ऐसा आया जब रिया मैडम के इशारे पर ही वो रहने लगे। सुशांत सिंह राजपूत के घर अक्सर पार्टियां होती थीं, जिनमें वो शामिल नहीं होते थे। घर के बहुत सारे फिजूलखर्चे थे। जिनसे सुशांत का कोई वास्ता नहीं था। एसएसआर अक्सर बीमार रहते थे और तबीयत खराब होने के चलते वो नीचे अपने कमरे में सोते रहते थे जबकि उनके घर की छत पर रिया मैडम अपने घरवालों और दोस्तों को बुलाकर पार्टियां करती थीं।

बॉडीगार्ड ने कहा कि ‘सुशांत के घर पर केवल रिया चक्रवर्ती के परिवार वालों का ही आना जाना होता था। सुशांत के घरवाले कभी नहीं आते थे। पैसे का हिसाब-किताब रिया चक्रवर्ती ही करती थीं। ऐसे में घर के जितने भी खर्चे होते थे सब सुशांत के पैसे पर ही होते थे। सुशांत के अपने खर्चे बहुत कम थे लेकिन अगर 15 करोड़ एक साल में खर्च हो गए तो उसकी जांच होनी चाहिए।’

बॉडीगार्ड ने रिया चक्रवर्ती पर लगे आरोपों पर कहा कि ‘मामले की जांच होनी चाहिए और सुशांत सिंह राजपूत को न्याय मिलना चाहिए। रिया से मिलने के बाद सुशांत के व्यवहार में काफी बदलाव आया था। उनके जितने स्टाफ थे सबको बदल दिया गया था। केवल मैं ही अकेला पुराना स्टाफ था जो बचा था।’

सुशांत को दवा के ओवरडोज देने के सवाल पर बॉडीगार्ड ने कहा कि ‘हम लोग जब भी उनसे मिलना चाहते थे तो हमें बताया जाता था कि सर सो रहे हैं। पहले तो सब ठीक था लेकिन यूरोप टूर के बाद से उनकी तबीयत खराब होनी शुरू हुई। उसके बाद से वो अक्सर बीमार रहने लगे थे।’

हाउसकीपर ने बताया कि बिना अभिनेत्री एवं सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती की इजाजत के बिना घर में दाखिल नहीं हो सकता था और न ही सुशांत से मिल सकता था। यहां तक कि सुशांत के कमरे में जाने तक की मनाही थी।

इसके अलावा पुलिस ने एक निजी बैंक के कर्मी से भी पूछताछ की, जो सुशांत का बैंक खाता डील करते था। सुशांत का आरएन कूपर म्यूनिसिपल हॉस्पीटल में पोस्टमा’र्टम करने वाले डॉक्टर के पास भी एसआईटी पहुंची। हालांकि डॉक्टर ने पोस्टमॉ’र्टम रिपोर्ट से संबंधित कुछ भी बताने से इनकार कर दिया। डॉक्टर का कहना था कि पहले ही उन्होंने मुंबई पुलिस को सुशांत की रिपोर्ट दे दी है, अगर एसआईटी चाहे तो यह रिपोर्ट मुंबई पुलिस से ले सकती है।

अब तक पटना पुलिस की एसआईटी को सुशांत की पोस्टमॉ’र्टम रिपोर्ट नहीं मिली है। ऐसा माना जा रहा है कि मुंबई पुलिस के इशारे पर ही यह सबकुछ हो रहा है। मुंबई पुलिस नहीं चाहती की ये सारे कागजात पटना पुलिस के हाथ लगे और जांच आगे बढ़े। सूत्रों की मानें पटना पुलिस ने मुंबई के डीसीपी को जांच में सहयोग करने को लेकर एक पत्र लिखा है। पत्र में कई पॉइंट्स पर जांच करने और उसमें जानकारी उपलब्ध कराने की बात का जिक्र है, इस लिस्ट में पोस्टमा’र्टम और विसरा रिपोर्ट की भी मांग की है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *