ये हैं वो 5 अभिनेत्रियां जो बॉलीवुड में अपने घरवालों की मर्जी के खिलाफ जाकर हीरोइन बनी

आज के ज़माने में फिल्मों में काम करना बहुत ही बड़ी बात मानी जाती है। लेकिन हमारे समाज में आज भी लड़कियों को बराबरी का हक पूरी तरह से नहीं मिल रहा है। फिल्मों जैसे प्रोफेशन को चुनने के लिए आज भी लड़कियों को बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ता है और इनमें सबसे बड़ी मुश्किल है घरवालों का विरोध। आज हम आपको कुछ ऐसी अभिनेत्रियों के बारे में बताने जा रहे है जिन्हें फिल्मों में आने के लिए घरवालों का जबरदस्त विरोध झेलना पड़ा लेकिन जब वे फिल्मों में आई तो रातों-रात स्टार बन गई।

अमिषा पटेल

मैडफोर्ड, मैसाचुसेट्स में टफट्स यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में गोल्ड मैडल विजेता, अमिषा पटेल बॉलीवुड की सबसे योग्य अभिनेत्रियों में से एक है। उनका शानदार अकादमिक रिकॉर्ड ही कारण है कि उनके माता-पिता फिल्मों में काम नहीं करने देना चाहते थे। हालांकि, अमिषा ने हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में ‘कहो ना प्यार है’ के साथ अपनी शुरुआत की, जो कि सुपर-हिट फिल्म थी। उनकी फिल्म ‘गदर’ अतिरिक्त रूप से एक ब्लॉकबस्टर थी। लेकिन, दुर्भाग्यवश, अभिनेत्री इन दो फिल्मों के अलावा फिल्म इंडस्ट्री में कुछ ख़ास नहीं कर पाई।

कंगना रानौत

कंगना रानौत की निजी ज़िन्दगी हमेशा से ही विवादों में रही है। कंगना बॉलीवुड में अक्सर अपने बयानों से हंगामा खड़ा करती रहती है। आज कंगना बॉलीवुड की सुपरस्टार है। लेकिन वे फिल्मों में काम करने के लिए घर से भागकर मुंबई आई थी। उनके पिता इन फिल्मों और एक्टिंग को लेकर काफी अलग सोचते थे। उन्हें पसंद नहीं था उनके घर का कोई सदस्य फिल्मों में जाकर एक्टिंग करे। कंगना को फिल्मों में काम पाने के लिए भी बहुत संघर्ष करना पड़ा था। कंगाना सिर्फ 19 वर्ष की उम्र की थी जब उनकी पहली फिल्म ‘गैंगस्टर’ रिलीज़ हुई। कंगाना की एक आम लड़की होने से लेकर बॉलीवुड की ‘रानी’ बनने तक की यात्रा में कोई रहस्य नहीं है। दरअसल, वह अपने माता-पिता की इच्छा के खिलाफ फिल्म इंडस्ट्री में गई थी, यह बात लोगों से छिपी नहीं है। फिर भी प्रतिभा और भाग्य से वह बॉलीवुड में प्रसिद्ध हो गईं।

करिश्मा कपूर

यूँ तो कपूर खानदान में लम्बे समय से महिलाएं फिल्मों में काम कर रही है लेकिन करिश्मा के मातापिता नहीं चाहते थे कि वह फिल्मों में आकर एक हीरोइन का काम करे। फिर भी अपने पिता और माता के खिलाफ जाकर और अपनी पढाई तक छोड़ दी। करिश्मा कपूर मात्र 5वीं क्लास तक पढ़ी हैं। करिश्मा ने फिल्म प्रेम कैदी से बॉलीवुड में डेब्यू किया था।

आयशा जुल्का

90 के दशक में लाखों दिलों को धड़काने वाली एक्ट्रेस आयशा जुल्का को भी घरवालों के विरोध का सामना करना पड़ा था। आयशा ने एक बार एक इंटरव्यू में कहा था कि फिल्मों जाकर काम करना उनके परिवार में अलाउड नहीं था और साथ ही उनके परिवार का कहना है कि ऐसे काम करने वाली लड़कियों को समाज स्वीकार नहीं करता है। फिर भी आयशा ने फिल्मों में अपने परिवार और समाज के खिलाफ जाकर अपना नाम बनाया था।

दिशा पटानी

ख़बरों में आया है की दिशा को बचपन से ही एक्टिंग का काफी शौक था और अपना एक्टिंग का सपना पूरा करने के लिए इन्होने पढाई भी अधूरी ही छोड़ दी थी और भागकर मुंबई आ गयी थी। दिशा मुंबई में अकेली रहती थी और और जब ये मुंबई आई थी तब इनके पास केवल 500 रूपये थे लेकिन इस बीच इन्होने कभी भी अपने परिवार की मदद नहीं ली। दिशा पटानी ने बॉलीवुड में अपने कैरियर की शुरुआत फिल्म ‘एमएस धोनी द अनटोल्ड स्टोरी’ से की और अच्छी सफलता हासिल की। हालाँकि इस फिल्म के बाद दिशा लोगों के दिलों में तो जगह नहीं बना पाई लेकिन बॉलीवुड में एक सफल फिल्म के साथ कदम रखा। इसके बाद दिशा फिल्म ‘बाग़ी 2’ में नजर आई फिल्म काफी जबरदस्त रही, दर्शकों को भी काफी ज्यादा पसंद आई। इस फिल्म के बाद दिशा की किस्मत काफी बदल गई और सलमान खान जैसे बड़े सुपरस्टार की फिल्म ‘भारत’ में काम करने का मौका भी मिल गया।

1 thought on “ये हैं वो 5 अभिनेत्रियां जो बॉलीवुड में अपने घरवालों की मर्जी के खिलाफ जाकर हीरोइन बनी”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *