अपनी एक अच्छी आदत के कारण सेट से धक्के मारकर निकाल दिए गए थे आशुतोष, जानिए उनकी जिंदगी से जुड़ी रोचक बातें!

मध्य प्रदेश के रहने वाले आशुतोष राणा ने ‘तमन्ना’, ‘जख्म’, ‘दुश्मन’ और ‘संघर्ष’ जैसी फिल्मों में बेहतरीन एक्टिंग से दर्शकों के दिलों में जगह बनाई है। आशुतोष राणा ने टीवी सीरियल ‘स्वाभिमान’ से अपने  करियर की शुरूआत की। आशुतोष राणा हमेशा अपने अलग तरह के किरदार और भूमिका निभाने के लिए जाने जाते हैं। अपनी बेहतरीन एक्टिंग के चलते आशुतोष ने फिल्म ‘दुश्मन’ में साइको किलर का किरदार निभाकर दर्शकों के रोंगटे खड़े कर दिए थे। आशुतोष पूजा-पाठ करने वाले धार्मिक इंसान है। उन्हें पूजा-पाठ का बहुत शौक है और वो भगवान शिव के बहुत बड़े भक्त हैं। वो अपने इस शौक को अपनी आस्था तथा धार्मिक विश्वास का रूप मानते हैं। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने बताया था कि वो अपने गुरु के कहने पर ही फिल्म जगत में आए थे और अब तक 30 से अधिक फिल्मों तथा कई टीवी सीरियलों में काम कर चुके हैं। उनका कहना है कि वह चाहे शूटिंग में कितने ही व्यस्त क्यों न हों लेकिन जब उनके गुरु सवा करोड़ पार्थिव शिवलिंग निर्माण महारुद्र यज्ञ के लिए बुलाते हैं तो वो सारे काम छोड़कर आ जाते हैं।

आशुतोष की जिंदगी में एक दिन ऐसा भी आया था जब उन्हें सेट से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। आशुतोष ने एक इंटरव्यू में अपने फिल्मी करियर की बात सुनाते हुए बताया था कि एक बार वो फिल्म निर्माता-निर्देशक महेश भट्ट से मिलने गए थे। भारतीय परंपरा के अनुसार, उन्होंने महेश भट्ट के पांव छू लिए। पांव छूते ही महेश भट्ट भड़क उठे क्योंकि महेश भट्ट को पैर छूने वालों से बहुत नफरत थी। उन्होंने आशुतोष को अपने फिल्म सेट से बाहर निकलवा दिया। इतना ही नहीं वो अपने सहायक निर्देशकों पर भी काफी गुस्सा हुए कि आखिर उन्होंने उसे कैसे फिल्म के सेट पर घुसने दिया। आशुतोष ने कहा कि इतने अपमान के बाद भी उन्होंने हिम्मत नहीं हारी।

जब भी महेश भट्ट से मिलते या कहीं दिखते हैं तो वह लपक कर उनके पैर छू लेते हैं। उन्होंने बताया कि एक दिन महेश भट्ट ने उनसे पूछ ही लिया कि वो उनके पैर क्यों छूते हैं जब कि उन्हें इससे नफरत है। आशुतोष ने जवाब दिया कि बड़ों के पैर छूना उनके संस्कार में है जिसे वो नहीं छोड़ सकते। आशुतोष ने कहा इस पर महेश भट्ट ने उन्हें गले से लगा लिया और टीवी सीरियल ‘स्वाभिमान’ में उन्हें गुंडे का पहला रोल दिया।

बाद में तो आशुतोष ने महेश भट्ट के साथ कई फिल्मों में काम किया जिसमें ‘जख्म’, ‘दुश्मन’ प्रमुख हैं। राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) के 1994 बैच के छात्र रहे आशुतोष राणा कहते हैं कि वो मध्यप्रदेश के रहने वाले एक सामान्य से छात्र थे और एलएलबी की पढ़ाई के बाद वकालत में अपना करियर बनाना चाहते थे। आशुतोष ने बताया कि प्रशिक्षण के बाद में उन्हें एनएसडी में ही नौकरी का ऑफर हुआ लेकिन उन्होंने फिल्म जगत में आने का रास्ता चुना।

आशुतोष राणा की पर्सनल लाइफ की बात करें तो उन्होंने रेणुका साहणे से शादी की है। रेणुका और आशुतोष की पहली मुलाकात फिल्म ‘जयति’ की शूटिंग के दौरान हुई थी। इसके बाद कई महीनों तक दोनों में कोई बात नहीं हुई। 1998 अक्टूबर में आशुतोष ने रेणुका को फोन कर दिवाली विश की। इसके बाद दो-तीन दिन उन्होंने लगातार रेणुका को फोन किया।

रेणुका की एक शादी पहले ही टूट चुकी थी। ये बात आशुतोष को पता थी। रेणुका के लिए ये सब सामान्य नहीं था। एक दिन रेणुका ने आशुतोष को फोन किया और एक घंटे तक बात की। उसके बाद 3 महीने तक दोनों फोन पर ही बात करते रहे। उन्होंने रेणुका को विश्वास दिलाया और उनके प्रति अपना प्यार जताया, फिर दोनों ने शादी करली और अब दोनों के दो बच्चे शौर्यमन और सत्येंद्र हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *